शाहीन बाग आंदोलन के सूत्रधार और भड़काऊ भाषण देक बुरे फंसे शरजील इमाम

Spread the love

पटना
पुलिस ने दिल्ली के शाहीन बाग आंदोलन के सूत्रधार और आपत्तिजनक भाषण देने के आरोप में जेएनयू के छात्र शरजील इमाम के काको स्थित पैतृक आवास पर छापेमारी की. बताया जा रहा है कि केन्द्रीय एजेंसियों ने ये छापेमारी स्थानीय जहानाबाद पुलिस की मदद से की और तीन लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ भी की गई. हालांकि उन्हें बाद में छोड़ दिया गया.

जानकारी के अनुसार छापेमारी में शरजील तो नहीं मिला, लेकिन पुलिस उसके दो रिश्तेदारों सहित तीन हिरासत में लिया. इस बाबत जहानाबाद एसपी मनीष कुमार ने पुलिस कारवाई की पुष्टि की है.

एसबी ने बताया कि केन्द्रीय एजेंसियों ने सहयोग मांगा था और उसी कड़ी में जहानाबाद पुलिस के सहयोग से काको स्थित उसके पैतृक घर पर छापेमारी की गई है. केंद्रीय एजेंसियां अपना काम कर रही हैं. हालांकि इस मामले में पुलिस कप्तान मनीष ज़्यादा जानकारी देने से बचते नजर आए.

बता दें कि जेएनयू छात्र शरजील इमाम का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें वो कहता है, हमारे पास संगठित लोग हों तो हम असम से हिंदुस्तान को हमेशा के लिए अलग कर सकते हैं.

शरजील आगे कहता है कि परमानेंटली नहीं तो एक-दो महीने के लिए असम को हिंदुस्तान से कट कर ही सकते हैं. रेलवे ट्रैक पर इतना मलबा डालो कि उनको एक महीना हटाने में लगेगा, जाना हो तो जाएं एयरफोर्स से. असम को काटना हमारी जिम्मेदारी है.

हालांकि जानकारी के अनुसार शरजील इमाम ने ये भाषण अलीगढ़ यूनिवर्सिटी में दिया था. इसलिए उसके खिलाफ आईपीसी की धारा 124 A, 153A , 153 B, 505, Sub section 2 में मामला दर्ज किया गया है. अलीगढ़ के अलावा शरजील इमाम के खिलाफ असम में भी केस दर्ज किया गया है.