अभिभावकों की राय महत्वपूर्ण, मांगे विभाग ने अभिभावकों से सुझाव

Spread the love

भोपाल
कोरोना कम होने पर अब स्कूल खोले जाएं या नहीं इसके लिए विभाग ने बॉल बच्चों के अभिभावकों के पाले में डाल दी है। विभाग ने अभिभावकों से राय मांगी है कि आप बताईये स्कूल खोले जाना चाहिए कि नहीं। इसके लिए विभाग ने चार बिंदु तैयार किए हैं। इन चार बिंदुओं पर अभिभावक और आम जनता से सुझाव मांगे गए हैं। इसके साथ ही  प्राचार्य,शैक्षणिक संस्थानों से अपनी राय देने के लिए कहा गया है।

चार बिंदुओं में शैक्षणिक सत्र 2021-22 शुरू करने के बारे में क्या सुझाव है, प्ले स्कूल प्राइमरी और मिडिल स्कूल कब तक खोले जाएं, कक्षा 9वीं से कक्षा 12वीं तक के स्कूल खोले जा सकते हैं या नहीं, साथ ही आॅनलाइन और आॅफलाइन एजुकेशन को लेकर भी सुझाव आमंत्रित किए गए हैं। गौरतलब है कि कोरोना के कारण राज्य में बीते एक वर्ष से स्कूल बंद है। बीते साल मार्च से कक्षा पहली से लेकर आठवीं तक के स्कूल बंद है। कक्षा नौवीं से 12वीं तक की कक्षाएं दो से 3 महीने के लिए डाउट क्लियर करने के लिए खोली गई थी।

स्कूल शिक्षा विभाग ने प्राचार्यों, शैक्षणिक संस्थानों,अभिभावकों और आम जनता से 2 जून से आॅनलाइन सुझाव मांगे गए हैं। सभी स्कूल शिक्षा विभाग की वेबसाइट पर सुझाव भेज रहे हैं। सुझाव देने के लिए 30 जून तक का समय तय किया गया है। सभी के मिले सुझावों के आधार पर और मंत्रियों की बैठक में कोरोना समीक्षा रिपोर्ट के आधार पर स्कूल खोलने को लेकर आगे फैसला किया जाएगा।

इधर, स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार का कहना है कि 15 जून के बाद प्रदेश भर में कोरोना संक्रमण पूरी तरह से काबू में रहता है, तो फिर आगे स्कूल खोलने को लेकर विचार विमर्श किया जाएगा। इसके लिए विभाग की ओर से चार बिंदुओं पर अभिभावकों से उनकी राय भी मांगी गई है। हमारे लिए बच्चों के अभिभावकों की राय ही सबसे महत्वपूर्ण है। उसके बाद ही कोई फैसला लिया जाएगा। साथ ही हम मंत्री समूह सप्ताह में एक बार बैठक कर कोरोना की मौजूदा स्थिति को लेकर भी समीक्षा करेंगे।