अत्याधुनिक सुविधओं से लैस है ओलंपिक खेल गांव

Spread the love

टोक्यो
 कोविड-19 के कारण एक साल के विलंब के बाद 23 जुलाई से होने वाला टोक्यो ओलंपिक किसी अन्य ओलंपिक की तरह नहीं होगा, लेकिन इसका खेल गांव काफी विशिष्ट होगा। इसमें कुछ ऐसी सुविधाएं मिलेंगी, जो पहले किसी ओलंपिक खेलों में देखने को नहीं मिली होंगी।

इसमें फीवर क्लिनिक से शुरुआत करते हैं जो टोक्यो बे में फैले विशाल गांव में अलग-अलग कमरों का परिसर है। यहीं पर कोविड-19 के संदिग्ध खिलाड़ियों और स्टाफ का पीसीआर परीक्षण किया जाएगा। निश्चित रूप से यह ऐसी जगह है जहां कोई खिलाड़ी या अधिकारी जाना नहीं चाहेगा। खेल गांव में विशाल डाइनिंग हाल, फिटनेस सेंटर और एक विशेष कैजुअल डाइनिंग क्षेत्र है जहां पर जापान के मशहूर लजीज पकवान परोसे जाएंगे, जिसमें ओकोनोमियाकी से लेकर चावल से गोल-गोल गेंदनुमा बना पकवान और टेपानायाकी शामिल हैं।

खेल गांव में खिलाड़ियों का रोज परीक्षण किया जाएगा और गांव में जांच में कोई भी गड़बड़ी खिलाडि़यों या स्टाफ को डा. तेतसुया मियामोटो के पास पहुंचा देगी, जो आयोजन समिति के चिकित्सा विभाग के सीनियर निदेशक हैं।

डा. मियामोटो ने कहा, "अगर कोई पाजिटिव आता है तो उसे यहां लाया जाएगा। उस व्यक्ति के कई परीक्षण किए जाएंगे। अगर उसे कोई लक्षण नहीं हैं या फिर मामूली लक्षण हैं तो उसे गांव के बाहर क्वारंटाइन होटल में रखा जाएगा। जो गंभीर मामले होंगे, उन्हें अस्पताल भेजा जाएगा।"

खेल गांव विशाल है और टोक्यो बे में नवनिíमत अपार्टमेंट ब्लाक हैं जिन्हें ओलंपिक और पैरालंपिक खेलों के खत्म होने के बाद बेच दिया जाएगा। खेल गांव अधिकारिक रूप से ओलंपिक शुरू होने से महज 10 दिन पहले 13 जुलाई को खोला जाएगा। खिलाड़ियों के लिए मास्क पहनना अनिवार्य होगा, भले ही उनका टीकाकरण हो चुका है और उन्हें बार-बार शारीरिक दूरी, हाथ धोने और कमरों को खुला रखने की सलाह की जाएगी। अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक समिति कह चुकी है कि खेल गांव में 80 प्रतिशत से ज्यादा लोगों का पूर्ण टीकाकरण होगा।