यूरो कप का final को लंदन में नहीं होना चाहिए- PM मारियो द्राघी

Spread the love

बर्लिन
यूरो कप 2020 के मुकाबलों को लेकर एक बेहद चौंकाने वाले बयान सामने आया है। इटली के प्रधानमंत्री मारियो द्राघी ने सोमवार को इस बात का खुलासा किया है वह किसी भी हालात में इस टूर्नामेंट के फाइनल मैच को इंग्लैंड में कराए जाने के समर्थन में नही थे। उनका कहना था कि वह कोरोना महामारी की इस लहर में संक्रमित होने वाले लोगों के बीच इस तरह का जोखिम उठाए जाने के खिलाफ थे।

 खबर के मुताबिक इटली के पीएम ने एक बयान में कहा, हां, हम इस बात को लेकर पूरी कोशिश करेंगे कि टूर्नामेंट का फाइनल इस देश में ना खेला जा सके। फाइनल मैच को इंग्लैंड में होने से रोका जाना चाहिए जहां कि संक्रमण इतनी तेजी से फैल रहा है।" बर्लिन में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान इस बात को दोहराया कि उनकी कोशिश यही रहेगी कि इंग्लैंड में यूरो कप 2020 का फाइनल मैच ना खेला जा सके।

लंदन में सेमीफाइनल और फाइनल मुकाबले

यूरो कप 2020 के दो प्री क्वार्टर फाइनल, दोनों सेमीफाइनल के अलावा फाइनल मुकाबला लंदन में खेला जाना है। इन मुकाबलों को वेम्बली स्टेडियम में आयोजित किए जाने की तैयारी है। 60 साल के टूर्नामेंट के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब इसके मुकाबलों को 12 अलग-अलग शहरों कराया जा रहा है।

यूरो 2020 में इटली का प्रदर्शन

इटली ने अपने विजयी अभियान को जारी रखते हुए वेल्स को 1-0 से हराकर यूरो कप के नाकआउट चरण में प्रवेश कर लिया। हालांकि हार के बावजूद भी वेल्स की टीम ग्रुप-ए में दूसरे स्थान पर रही और उसने भी नाकआउट चरण में अपनी जगह पक्की की। वेल्स के स्विट्जरलैंड के साथ तालिका में चार-चार अंक हो गए हैं लेकिन, वेल्स बेहतर गोल अंतर के कारण तीसरे स्थान पर पहुंच गया।