September 21, 2021

ग्वालियर, चम्बल संभाग में बाढ़ की भयावह स्थिति, राहत एवं बचाव कार्य से अवगत कराया

Spread the love

भोपाल

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह  चौहान   ने आज नई दिल्ली में मध्यप्रदेश के सांसदों के साथ प्रदेश से जुड़े महत्वपूर्ण विषयों पर बैठक में भाग लिया। बैठक की अध्यक्षता पार्टी अध्यक्ष जे.पी. नड्डा ने की। बैठक में नव नियुक्त केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और डॉ. वीरेन्द्र कुमार खटीक को सम्मानित किया गया। मुख्यमंत्री  चौहान  ने बैठक की शुरूआत में ग्वालियर, चंबल संभाग में भारी वर्षा से आयी बाढ़ की स्थिति से अवगत कराया और राज्य सरकार द्वारा किये जा रहे राहत एवं बचाव कार्यों की विस्तृत जानकारी दी। बैठक में प्रभारी राष्ट्रीय सचिव, संगठन सचिव, प्रदेश अध्यक्ष और पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री चौहान ने बताया कि ग्वालियर और चम्बल संभाग के भिण्ड, गुना, शिवपुरी, श्योपुर, दतिया, मुरैना और ग्वालियर जिले प्रभावित हुए है। मुख्यमंत्री  चौहान   ने बताया कि वे अभी बाढ़ग्रस्त इलाकों का हवाई सर्वेक्षण कर बाढ़ से हुए नुकसान और राहत कार्यों का जायजा लेते हुए आये हैं। मुख्यमंत्री  चौहान   ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा 24×7 कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है, जिसके माध्यम से जिला प्रशासन से सतत् संपर्क बनाये हुए हैं। बचाव कार्यों में एनडीईआरएफ, एसडीईआरएफ और वायु सेना के हेलीकॉप्टरों की मदद से अभी तक लगभग 8 हजार से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुँचाया गया है। बचाव अभियान अभी जारी है। मुख्यमंत्री चौहान ने केन्द्र द्वारा दी गई मदद के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह का धन्यवाद ज्ञापित किया। अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मोहम्मद सुलेमान ने दृष्य एवं श्रव्य माध्यम द्वारा कोविड-19 से संबंधित जानकारी का प्रस्तुतिकरण दिया। उन्होंने कोविड-19 की वर्तमान स्थिति और राज्य सरकार द्वारा कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए भविष्य की तैयारियों से अवगत कराया। प्रस्तुतिकरण में कोविड से जुड़े मुख्य सूचकांक, दैनिक टेस्टिंग, किल कोरोना अभियान और मध्यप्रदेश के जन-भागीदारी मॉडल के बारे में विस्तार से जानकारी दी। साथ ही जिला स्तरीय कोविड कमांड एवं कंट्रोल सेन्टर और तीसरी लहर से निपटने के लिए शासकीय चिकित्सालयों में की गई तैयारियों की स्थिति, ऑक्सीजन प्रबंधन, आवश्यक दवाइयों एवं आक्सीजन कंसंट्रेटर की उपलब्धता, चिकित्सा अधिकारी और पैरा-मेडिकल स्टाफ की भर्ती, प्रदेश में चल रहे कोविड वैक्सीनेशन अभियान और जिलेवार प्रथम और द्वितीय डोज की स्थिति के बारे में जानकारी दी।