कनाडा चुनाव: जस्टिन ट्रूडो का फिर प्रधानमंत्री बनना करीब-करीब तय 

Spread the love

ओटावा
कनाडा में आज शाम तक चुनावी परिणाम जारी हो जाएंगे और पूरी तस्वीर साफ हो जाएगी कि देश का अगला प्रधानंमत्री कौन बनेगा। लेकिन, शुरआती पोल में कांटे की टक्कर होने का अंदाजा लगाया गया है। लेफ्टिस्ट-उदारवादी चेहरा जस्टिन ट्रू़डो को चुनाव में कांटे की टक्कर में फिर से जीत मिलती दिखाई दे रही है, लेकिन सीबीसी न्यूज ने अनुमान लगाया है कि यह कहना जल्दबाजी होगी कि वे कितनी मजबूत सरकार बनाएंगे, लेकिन सीबीसी न्यूज ने कहा है कि जीत जस्टिन ट्रूडो की ही होती दिखाई दे रही है। 

 जस्टिन ट्रूडो बनाएंगे सरकार! जस्टिन ट्रूडो की पार्टी अभी तक अल्पमत में चल रही थी, लिहाजा पूर्ण बहुमत पाने के लिए उन्होंने तय समय से 2 साल पहले ही देश में चुनाव करा दिया, लेकिन तमाम अनुमानों में कहा गया है कि जस्टिन ट्रूडो को 2019 में हुए लोकसभा चुनाव से भी कम वोट मिल सकते हैं। दरअसल, जस्टिन ट्रूडो को कनाडा की संसद के नीचले सदन, जिसे हाउस ऑफ कॉमंस कहा जाता है, वहां किसी भी बिल को पास कराने के लिए दूसरे दलों पर निर्भर रहना पड़ता था, लिहाजा उन्होंने मध्यावधि चुनाव कराने का फैसला ले लिया। ट्रूडो के एक पूर्व सलाहकार और करीबी दोस्त गेराल्ड बट्स ने सीबीसी टीवी को बताया, "अगर लिबरल खेमे के भीतर लिबरल बहुमत वाली सरकार होती तो लोगों को बहुत सुखद आश्चर्य होता, लेकिन मुझे लगता है कि यह अभी भी बहुत जल्द है।"

MF क्या कहता है चुनावी अनुमान कनाडा चुनाव में ट्रूडो की लिबरल पार्टी को 146 चुनावी जिलों में आगे बढ़ते हुए दिखाया, जिसमें वोटों का केवल एक छोटा अंश गिना गया। हाउस ऑफ कॉमन्स के पास 338 सीटें हैं और एक पार्टी को बहुमत हासिल करने के लिए 170 जीत की जरूरत होती है। पोल ने सामान्य से बहुत अधिक धीरे-धीरे परिणाम की सूचना दी है। कुछ स्टेशनों को COVID-19 प्रतिबंधों के कारण वोटों की गिनती में दिक्कतें आ रही हैं। वहीं, वोटिंग के वक्त भी दक्षिणी ओंटारियो में मतदान के लिए घंटों इंतजार करने के लिए मजबूर किया। ओंटारिया और क्यूबेक, इन दो जगहों पर लोकसभा के कुल 199 सीटें हैं, जिनमें से अभी तक ट्रूडो की पार्टी 113 सीटों पर आगे चल रही थी। 

वगीं, अटलांटिक राज्य की 32 सीटों में से लिबरल पार्टी 23 पर आगे चल रही है, जबकि पिछली बार यहां पर लिबरल पार्टी ने 27 सीटें जीती थी। वहीं एरिन ओ'टोल, जो विपत्र के पीएम पद के उम्मीदवार हैं, उनकी पार्टी को भी कई जिलों में अच्छी बढ़त मिल रही है। कांटे की टक्कर का अनुमान कनाडाई मीडिया के मुताबिक इस बार के हाउस ऑफ कॉमन्स के चुनाव में जस्टिन ड्रूडो के भाग्य का फैसला कई मुद्दे कर रहे हैं। खासकर अफगानिस्तान से रिफ्यूजी को देश में लाना उनके खिलाफ जा रहा है, तो कोरोना वायरस संक्रमण को सही तरीके से हैंडल नहीं करने और उसी दौरान मध्यावधि चुनाव कराने का ऐलान करना भी उनके खिलाफ जाता दिखाई दे रहा है। माना जा रहा है कि, जो लोग कोरोना वायरस की चौथी लहर के बीच चुनाव कराए जाने के खिलाफ हैं, वो जस्टिन ट्रूडो की पार्टी के खिलाफ वोट डालकर अपनी नाराजगी का इजहार कर सकते हैं और यही फैक्टर उनके खिलाफ जाता दिखाई दे रहा है।