1 लाख घूस लेते पकड़े गए CMO और अकाउंटेंट

Spread the love

दमोह
जिले के  तेंदूखेड़ा नगर पंचायत में सागर लोकायुक्त टीम ने मंगलवार को बड़ी कार्रवाई की है। ठेकेदार से 30 लाख के बिल के बदले एक लाख की रिश्वत लेते CMO प्रकाश पाठक और अकाउंटेंट जितेंद्र श्रीवास्तव को गिरफ्तार कर लिया। दोनों नगर पंचायत में अपने दफ्तर में ही रिश्वत ले रहे थे। मामले में सब इंजीनियर अशोक शाह को भी आरोपी बनाया गया है। रिश्वत का 40% हिस्सा CMO और 60% हिस्सा अकाउंटेंट और सब इंजीनियर का था।

नगर परिषद ठेकेदार बीएल बड़ेरिया ने बताया कि उसने शिक्षक कालोनी में सीसी सड़क और नाली निर्माण कराया था, जिसका भुगतान लगभग 30 लाख था। निर्माण कार्य होने के बाद भी नगर परिषद के CMO, इस इंजीनियर और अकाउंटेंट भुगतान के बदले रिश्वत मांग रहे थे। CMO उससे 13% कमीशन मांग रहे थे।

बीएल बड़ेरिया के अनुसार, कमीशन न देने के कारण CMO बिल नहीं पास कर रहे थे। कई बार अनुरोध किया, लेकिन CMO ने उसकी नहीं सुनी, इसलिए उसे मजबूर होकर सागर लोकायुक्त में जाकर अपनी शिकायत दर्ज करानी पड़ी लोकायुक्त की इस कार्रवाई में डीएसपी राजेश खेड़े निरीक्षक अभिषेक वर्मा निरीक्षण केपीएस बेन आशुतोष व्यास विक्रम सिंह अरविंद नायक  की अहम भूमिका रही

कार्रवाई करती लोकायुक्त टीम। लाल घेरे में आरोपी CMO।
सागर लोकायुक्त DSP राजेश खेड़े ने बताया कि शिकायत दर्ज करने के बाद लोकायुक्त टीम ठेकेदार के साथ CMO कार्यालय पहुंची। लोकायुक्त टीम ने ठेकेदार को कैमिकल लगे नोट दिए और जैसे ही CMO, अकाउंटेंट ने कैमिकल लगे नोटों को लिया, लोकायुक्त टीम ने दोनों को पकड़ लिया। सब इंजीनियर दफ्तर नहीं आया था, इसलिए वह पकड़ा नहीं गया, लेकिन उसको भी आरोपी बनाया गया है।

पहले भी 54 हजार रुपए ले चुके थे
ठेकेदार बीएल बड़ेरिया ने बताया कि एक लाख रुपए से पहले भी उसने 54 हजार रुपए घूस में दे चुका है। इसमें से 36 हजार रुपए सब इंजीनियर अशोक शाह और 18 हजार रुपए अकाउंटेंट जितेंद्र श्रीवास्तव ने लिया था।

वार्ड मोहर्रर के रूप में हुई थी नियुक्ति
कुछ साल पहले प्रकाश पाठक की वार्ड मोहर्रर के रूप में तेंदूखेड़ा में नियुक्ति हुई थी। यहां कुछ साल काम करने के बाद प्रकाश पाठक ने प्रभारी CMO के तौर पर बीते कुछ साल हिंडोरिया, पटेरा और पथरिया में सेवाएं दी। करीब 2 साल पहले प्रकाश पाठक को तेंदूखेड़ा CMO​​​​​​​ का प्रभार दिया गया था।